Search form

आमाल 18

1इन बातों के बा'द पौलुस अथेने से रवाना हो कर कुरिन्थुस में आया। 2और वहाँ उसको अक्विला नाम का एक यहूदी मिला जो पुन्तुस की पैदाइश था, और अपनी बीवी प्रिस्किल्ला समेत इतालिया से नया नया आया था; क्यूँकि क्लौदियुस ने हुक्म दिया था, कि सब यहूदी रोमा से निकल जाएँ। पस, वो उसके पास गया। 3और चूँकि उनका हम पेशा था, उन के साथ रहा और वो काम करने लगे; और उन का पेशा ख़ेमा दोज़ी था। 4और वो हर सबत को इबादतख़ाने में बहस करता और यहूदियों और यूनानियों को तैयार करता था। 5और जब सीलास और तीमुथियुस मकिदुनिया से आए, तो पौलुस कलाम सुनाने के जोश से मजबूर हो कर यहूदियों के आगे गवाही दे रहा था कि ईसा' ही मसीह है। 6जब लोग मुख़ालिफ़त करने और कुफ़्र बकने लगे, तो उस ने अपने कपड़े झाड़ कर उन से कहा, “तुम्हारा ख़ून तुम्हारी गर्दन पर मैं पाक हूँ, अब से ग़ैर क़ौमों के पास जाऊँगा।” 7पस, वहाँ से चला गया, और तितुस युस्तुस नाम के एक "ख़ुदा" परस्त के घर चला गया, जो इबादतख़ाने से मिला हुआ था। 8और इबादतख़ाने का सरदार क्रिसपुस अपने तमाम घराने समेत "ख़ुदावन्द" पर ईमान लाया; और बहुत से कुरिन्थी सुनकर ईमान लाए, और बपतिस्मा लिया। 9और ख़ुदावन्द ने रात को रोया में पौलुस से कहा, “ख़ौफ़ न कर, बल्कि कहे जा और चुप न रह। 10इसलिए कि मैं तेरे साथ हूँ, और कोई शख़्स तुझ पर हमला कर के तकलीफ़ न पहुँचा सकेगा; क्यूँकि इस शहर में मेरे बहुत से लोग हैं|” 11पस, वो डेढ़ बरस उन में रहकर ख़ुदा का कलाम सिखाता रहा। 12जब गल्लियो अख़िया का सुबेदार था, यहूदी एका करके पौलुस पर चढ़ आए, और उसे अदालत में ले जा कर। 13कहने लगे “कि ये शख़्स लोगों को तरग़ीब देता है, कि शरी'अत के बरख़िलाफ़ ख़ुदा की इबादत करें।” 14जब पौलुस ने बोलना चाहा, तो गल्लियो ने यहूदियों से कहा, “ऐ यहूदियो, अगर कुछ ज़ुल्म या बड़ी शरारत की बात होती तो वाजिब था, कि मैं सब्र करके तुम्हारी सुनता। 15लेकिन जब ये ऐसे सवाल हैं जो लफ़्ज़ों और नामों और ख़ास तुम्हारी शरी'अत से तअ'ल्लुक रखते हैं तो तुम ही जानो।मैं ऐसी बातों का मुन्सिफ़ बनना नहीं चाहता।” 16और उस ने उन्हें अदालत से निकलवा दिया। 17फिर सब लोगों ने इबादतख़ाने के सरदार सोस्थिनेस को पकड़ कर अदालत के सामने मारा, मगर गल्लियो ने इन बातों की कुछ परवाह न की। 18पस, पौलुस बहुत दिन वहाँ रहकर भाइयों से रुख़्सत हुआ ; चूँकि उस ने मन्नत मानी थी, इसलिए किन्ख़रिया में सिर मुंडवाया और जहाज़ पर सूरिया को रवाना हुआ ; और प्रिसकिल्ला और अक्विला उस के साथ थे। 19और इफ़िसुस में पहुँच कर उस ने उन्हें वहाँ छोड़ा और आप इबादतख़ाने में जाकर यहूदियों से बहस करने लगा। 20जब उन्होंने उस से दरख़्वास्त की, "और कुछ अरसे हमारे साथ रह" तो उस ने मंज़ूर न किया। 21बल्कि ये कह कर उन से रुख़्सत हुआ“अगर "ख़ुदा" ने चाहा तो तुम्हारे पास फिर आऊँगा ”और इफ़िसुस से जहाज़ पर रवाना हुआ। 22फिर क़ैसरिया में उतर कर यरूशलीम को गया, और कलीसिया को सलाम करके अन्ताकिया में आया। 23और चन्द रोज़ रह कर वहाँ से रवाना हुआ, और तरतीब वार गलतिया के इलाक़े और फ्रूगिया से गुज़रता हुआ सब शागिर्दों को मज़बूत करता गया। 24फिर अपुल्लोस नाम के एक यहूदी इसकन्दरिया की पैदाइश ख़ुशतक़रीर किताब-ए-मुक़द्दस का माहिर इफ़िसुस में पहुँचा । 25इस शख़्स ने "ख़ुदावन्द" की राह की ता'लीम पाई थी, और रूहानी जोश से कलाम करता और ईसा' की वजह से सहीह सहीह ता'लीम देता था। मगर सिर्फ़ यूहन्ना के बपतिस्मे से वाक़िफ़ था। 26वो इबादतख़ाने में दिलेरी से बोलने लगा, मगर प्रिस्किल्ला और अक्विला उसकी बातें सुनकर उसे अपने घर ले गए। और उसको ख़ुदा की राह और अच्छी तरह से बताई। 27जब उस ने इरादा किया कि पार उतर कर अख़िया को जाए तो भाइयों ने उसकी हिम्मत बढ़ाकर शागिर्दों को लिखा कि उससे अच्छी तरह मिलना। उस ने वहाँ पहुँचकर उन लोगों की बड़ी मदद की जो फ़ज़ल की वजह से ईमान लाए थे। 28क्यूँकि वो किताब -ए -मुक़द्दस से ईसा' का मसीह होना साबित करके बड़े ज़ोर शोर से यहूदियों को ऐलानिया क़ायल करता रहा।

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index