Search form

यूहन्ना 4

उस पर ख़ुदा का गजब रहता है

1फिर जब खुदावन्द को मा'लूम हुआ,कि फरीसियों ने सुना है कि ईसा'युहन्ना से ज्यादा शागिर्द बनाता है और बपतिस्मा देता है, 2(अगरचे ईसा' आप नहीं बल्कि उसके शागिर्द बपतिस्मा देते थे), 3तो वो यहूदिया को छोड़कर फिर गलील को चला गया। 4और उसको सामरिया से होकर जाना ज़रूर था| 5पस वो सामरिया के एक शहर तक आया जो सूखार कहलाता है,वो उस कत'ए के नज़दीक है जो या'कूब ने अपने बेटे यूसुफ़ को दिया था; 6और या'कूब का कुआँ वहीं था|चुनाँचेईसा'सफ़र से थका-माँदा होकर उस कुँए पर यूँ ही बैठ गया|ये छठे घंटे के करीब था| 7सामरिया की एक'औरत पानी भरने आई|ईसा'ने उससे कहा, “मुझे पानी पिला ” 8क्यूँकि उसके शागिर्द शहर में खाना ख़रीदने को गए थे| 9"उस सामरी'औरत ने उससे कहा, ""तू यहूदी होकर मुझ सामरी'औरत से पानी क्यूँ माँगता है?"" (क्यूँकि यहूदी सामरियों से किसी तरह का बर्ताव नहीं रखते|)" 10"ईसा'ने जवाब में उससे कहा, ""अगर तू ख़ुदा की बख्शिश को जानती,और ये भी जानती कि वो कौन है जो तुझ से कहता है, 'मुझे पानी पिला, 'तो तू उससे माँगती और वो तुझे ज़िन्दगी का पानी देता|""" 11"'औरत ने उससे कहा, ""ऐ खुदावन्द!तेरे पास पानी भरने को तो कुछ है नहीं और कुआँ गहरा है,फिर वो ज़िन्दगी का पानी तेरे पास कहाँ से आया?" 12क्या तू हमारे बाप या'कूब से बड़ा जिसने हम को ये कुआँ दिया,और ख़ुद उसने और उसके बेटों ने और उसके जानवरों ने उसमें से पिया?” 13"ईसा'ने जवाब में उससे कहा,""जो कोई इस पानी में से पीता है वो फिर प्यासा होगा," 14"मगर जो कोई उस पानी में से पिएगा जो मैं उसे दूँगा,वो अबद तक प्यासा न होगा!बल्कि जो पानी मैं उसे दूँगा,वो उसमें एक चश्मा बन जाएगा जो हमेशा की ज़िन्दगी के लिए जारी रहेगा|""" 15"""औरत ने उस से कहा, “ऐ ख़ुदावन्द!वो पानी मुझ को दे ताकि मैं न प्यासी होऊँ,न पानी भरने को यहाँ तक आऊँ|""" 16"ईसा'ने उससे कहा,""जा,अपने शौहर को यहाँ बुला ला|""" 17"'औरत ने जवाब में उससे कहा,”मैंबे शौहर हूँ|""ईसा'ने उससे कहा, ""तुने ख़ूब कहा,'मैंबे शौहर हूँ,'" 18"क्यूँकि तू पाँच शौहर कर चुकी है,और जिसके पास तू अब है वो तेरा शौहर नहीं;ये तूने सच कहा|""" 19"'औरत ने उससे कहा, ""ऐ खुदावन्द!मुझे मा'लूम होता है कि तू नबी है|" 20"हमारे बाप-दादा ने इस पहाड़ परइबादतकी,और तुम कहते हो कि वो जगह जहाँ परइबादतकरना चाहिए यरूशलीम में है|""'" 21"ईसा'ने उससे कहा, ""ऐ'औरत!मेरी बात का यकीन कर,कि वोवक़्तआता है कि तुम न तो इस पहाड़ पर बाप कीइबादतकरोगे और न यरूशीलम में|”" 22तुम जिसे नहीं जानते उसकी इबादत करते हो;और हम जिसे जानते हैं उसकी इबादत करते हैं ;क्यूँकि नजात यहुदियों में से है| 23मगर वोवक़्तआता हैबल्किअब ही है,कि सच्चेइबादतगारबाप कीइबादतरूह और सच्चाई से करेंगे,क्यूँकिबाप अपने लिए ऐसे ही इबादतगार ढूँढता है| 24ख़ुदा रूह है,और ज़रूर है कि उसके इबादतगार रूह और सच्चाई से इबादत करें| 25"'औरत ने उससे कहा, “मैं जानती हूँ कि मसीह जो ख्रिस्तुस कहलाता है आने वाला है,जब वो आएगा तो हमें सब बातें बता देगा|""" 26"ईसा ने उससे कहा, ""मैं जो तुझ से बोल रहा हूँ,वही हूँ|""" 27"इतने में उसके शागिर्द आ गए और ताअ'ज्जुब करने लगे कि वो'औरत से बातें कर रहा है,तोभी किसी ने न कहा, ""तू क्या चाहता है?""या, ""उससे किस लिए बातें करता है|""" 28पस'औरत अपना घड़ा छोड़कर शहर में चली गई और लोगों से कहने लगी, 29"“आओ,एक आदमी को देखो,जिसने मेरे सब काम मुझे बता दिए|क्या मुम्किन है कि मसीह यही है?""" 30वो शहर से निकल कर उसके पास आने लगे| 31"इतने में उसके शागिर्द उससे ये दरख्वास्त करने लगे, ""ऐ रब्बी!कुछ खा ले|""" 32"लेकिन उसने कहा, ""मेरे पास खाने के लिए ऐसा खाना है जिसे तुम नहीं जानते|""" 33"पस शागिर्दों ने आपस में कहा, ""क्या कोई उसके लिए कुछ खाने को लाया है?""" 34"ईसा'ने उनसे कहा, ""मेरा खाना,ये है,कि अपने भेजनेवाले की मर्ज़ी के मुताबिक़'अमल करूं और उसका काम पूरा करूं|।" 35क्या तुम कहते नहीं, 'फसलके आने में अभी चार महीने बाकी हैं'?देखो,मैं तुम से कहता हूँ,अपनी आँखें उठाकर खेतों पर नज़र करो किफसलपक गई है। 36और काटनेवाला मज़दूरी पाता और हमेशा की ज़िन्दगी के लिए फल जमा'करता है,ताकि बोनेवाला और काटनेवाला दोनों मिलकर ख़ुशी करें| 37क्यूँकि इस पर ये मसल ठीक आती है, 'बोनेवाला और काटनेवाला और|' 38"मैंने तुम्हें वो खेत काटने के लिए भेजा जिस पर तुम ने मेहनत नहीं की,औरों ने मेहनत की और तुम उनकी मेहनत के फल में शरीक हुए|""" 39"और उस शहर के बहुत से सामरी उस'औरत के कहने से,जिसने गवाही दी, ""उसने मेरे सब काम मुझे बता दिए, ""उस पर ईमान लाए|" 40पस जब वो सामरी उसके पास आए,तो उससे दरख्वास्त करने लगे कि हमारे पास रह|चुनांचे वो दो रोज़ वहाँ रहा| 41और उसके कलाम के जरिये से और भी बहुत सारे ईमान लाए 42"और उस औरत से कहा""अब हम तेरे कहने ही से ईमान नहीं लाते क्यूँकि हम ने ख़ुद सुन लिया और जानते हैंकिये हकीक़तमेंदुनिया का मुन्जी है|""" 43फिर उन दो दिनों के बा'द वो वहाँ से होकर गलील को गया| 44क्यूँकि ईसा'ने ख़ुद गवाही दी कि नबी अपने वतन में इज़्ज़त नहीं पाता| 45पस जब वो गलील में आया तो गलीलियों ने उसे क़ुबूल किया,इसलिए कि जितने काम उसने यरूशीलम में'ईद के वक़्त किए थे,उन्होंने उनको देखा था क्यूँकि वो भी'ईद में गए थे| 46पस फिर वो काना-ए-गलील में आया,जहाँ उसने पानी को मय बनाया था,और बादशह का एक मुलाज़िम था जिसका बेटा कफरनहुम में बीमार था| 47वो ये सुनकर कि ईसा यहुदिया से गलील में आ गया है,उसके पास गया और उससे दरख्वास्त करने लगा,कि चल कर मेरे बेटे को शिफा बख्श क्यूँकि वो मरने को था| 48"ईसा'ने उससे कहा,""जब तक तुम निशान और'अजीब काम न देखो,हरगिज़ ईमान न लाओगे|""" 49"बादशाह के मुलाज़िम ने उससे कहा, ""ऐ खुदावन्द!मेरे बच्चे के मरने से पहले चल|""" 50"ईसा ने उससे कहा, ""जा;तेरा बेटा ज़िन्दा है|""उस शख्स ने उस बात का यकीन किया जो ईसा ने उससे कही और चला गया|" 51"वो रास्ते ही में था कि उसके नौकर उसे मिले और कहने लगे, ""तेरा बेटा ज़िन्दा है|""" 52"उसने उनसे पूछा, ""उसे किसवक़्तसे आराम होने लगा था?""उन्होंने कहा, ""कल सातवें घन्टे में उसका बुखार उतर गया|""" 53"पस बाप जान गया कि वहीवक़्तथा जबईसा'ने उससे कहा, ""तेरा बेटा ज़िन्दा है|""और वो ख़ुद और उसका सारा घराना ईमान लाया|" 54ये दूसरा करिश्मा है जोईसा'ने यहूदिया से गलील में आकर दिखाया|

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index