Search form

यूहन्ना 5

1इन बातों के बा'द यहूदियों की एक'ईद हुई औरईसा'यरूशलीम को गया| 2यरूशलीम में भेड़ दरवाज़े के पास एक हौज़ है जो'इब्रानी में बैते हस्दा कहलाता है,और उसके पाँच बरामदे हैं| 3इनमें बहुत से बीमार और अन्धे और लंगड़े और कमज़ोर लोग [जो पानी के हिलने के इंतजार मे पड़े थे| 4[क्यूकि वक़्त पर खुदावन्द का फरिश्ता हौज़ पर उतर कर पानी हिलाया करता था|पानी हिलते ही जो कोई पहले उतरता सो शिफा पाता,उसकी जो कुछ बीमारी क्यूँ न हो|] 5वहाँ एक शख्स था जो अड़तीस बरस से बीमारी में मुब्तिला था| 6"उसको'ईसा'ने पड़ा देखा और ये जानकर कि वो बड़ी मुद्दत से इस हालत में है,उससे कहा, ""क्या तू तन्दरुस्त होना चाहता है?""" 7"उस बीमार ने उसे जवाब दिया, ""ऐ खुदावन्द!मेरे पास कोई आदमी नहीं कि जब पानी हिलाया जाए तो मुझे हौज़ में उतार दे,बल्किमेरे पहुँचते पहुँचते दूसरा मुझ से पहले उतर पड़ता है|""" 8"'ईसा'ने उससे कहा, ""उठ,और अपनी चारपाई उठाकर चल फिर|""" 9वो शख्स फ़ौरन तन्दरुस्त हो गया,और अपनी चारपाई उठाकर चलने फिरने लगा| 10"वो दिनसबतका था|पस यहूदी उससे जिसने शिफा पाई थी कहने लगे, ""आजसबतका दिन है,तुझे चारपाई उठानाजायजनहीं|""" 11"उसने उन्हें जवाब दिया, ""जिसने मुझे तन्दरुस्त किया,उसी ने मुझे फरमाया, 'अपनी चारपाई उठाकर चल फिर|' """ 12"उन्होंने उससे पूछा, ""वो कौन शख्स है जिसने तुझ से कहा, 'चारपाई उठाकर चल फिर' ?""" 13लेकिन जो शिफा पा गया था वो न जानता था कि वो कौन है,क्यूँकि भीड़की वजह से'ईसा'वहाँ से टल गया था| 14"इन बातों के बा'द वोईसा'को हैकल में मिला;उसने उससे कहा, ""देख,तू तन्दरुस्त हो गया है!फिर गुनाह न करना,ऐसा न हो कि तुझपर इससे भीज्यादाआफत आए|""" 15उस आदमी ने जाकर यहूदियों को खबर दी कि जिसने मुझे तन्दरुस्त किया वोईसा'है| 16इसलिए यहूदी ईसा'को सताने लगे,क्यूँकि वो ऐसे कामसबतके दिन करता था| 17"लेकिनईसा'ने उनसे कहा, ""मेरा बाप अब तक काम करता है,और मैं भी काम करता हूँ|""" 18इसवजहसे यहूदी और भीज्यादाउसे कत्ल करने की कोशिश करने लगे,कि वो न फ़कतसबतका हुक्म तोड़ता,बल्कि ख़ुदा को ख़ास अपना बाप कह कर अपने आपको ख़ुदा के बराबर बनाता था 19"पस ईसा'ने उनसे कहा, ""मैं तुम से सच कहता हूँ कि बेटा आप से कुछ नहीं कर सकता,सिवा उसके जो बाप को करते देखता है;क्यूँकिजिन कामों को वो करता है,उन्हें बेटा भी उसी तरह करता है|" 20इसलिए कि बाप बेटे को'अज़ीज़ रखता है,और जितने काम ख़ुद करता है उसे दिखाता है;बल्किइनसे भी बड़े काम उसे दिखाएगा,ताकितुम ता'ज्जुब करो| 21क्यूँकि जिस तरह बाप मुर्दों को उठाता और ज़िन्दा करता है,उसी तरह बेटा भी जिन्हें चाहता है ज़िन्दा करता है| 22क्यूँकि बाप किसी की'अदालत भी नहीं करता,बल्कि उसने'अदालत का सारा काम बेटे के सुपुर्द किया है; 23ताकि सब लोग बेटे की'इज़्ज़त करें जिस तरह बाप की'इज़्ज़त करते हैं|जो बेटे की'इज़्ज़त नहीं करता,वो बाप की जिसने उसे भेजा'इज़्ज़त नहीं करता| 24मैंतुम से सच कहता हूँ कि जो मेरा कलाम सुनता और मेरे भेजने वाले का यकीन करता है,हमेशा की ज़िन्दगी उसकी है और उस पर सज़ा का हुक्म नहीं होता बल्कि वो मौत से निकलकर ज़िन्दगी में दाखिल हो गया है|” 25"""मैंतुम से सच सच कहता हूँ कि वोवक़्तआता है बल्कि अभी है,कि मुर्दे ख़ुदा के बेटे की आवाज़ सुनेंगे और जो सुनेंगे वो जिएँगे|" 26क्यूँकि जिस तरह बाप अपने आप में ज़िन्दगी रखता है,उसी तरह उसने बेटे को भी ये बख्शा कि अपने आप में ज़िन्दगी रख्खे| 27बल्कि उसे'अदालत करने का भी इखित्यार बख्शा,इसलिए कि वो आदमज़ाद है| 28इससे ता'अज्जुब न करो;क्यूँकि वोवक़्तआता है कि जितने कब्रों में हैं उसकी आवाज़ सुनकर निकलेंगे, 29जिन्होंने नेकी की है ज़िन्दगी की क़यामत,के वास्ते,और जिन्होंने बदी की है सज़ा की क़यामत के वास्ते|” 30"""मैं अपने आप से कुछ नहीं कर सकता;जैसा सुनता हूँ'अदालत करता हूँ और मेरी'अदालत रास्त है,क्यूँकि मैं अपनी मर्ज़ी नहीं बल्कि अपने भेजने वाले की मर्ज़ी चाहता हूँ|" 31अगर मैं ख़ुद अपनी गवाही दूँ,तो मेरी गवाही सच्ची नहीं| 32एक और है जो मेरी गवाही देता है,और मैं जानता हूँ कि मेरी गवाही जो वो देता है सच्ची है| 33तुम ने युहन्ना के पास पयाम भेजा,और उसने सच्चाई की गवाही दी है| 34लेकिन मैं अपनी निस्बत इन्सान की गवाही मंज़ूर नहीं करता,तोभी मैं ये बातें इसलिए कहता हूँ कि तुम नजात पाओ| 35वो जलता और चमकता हुआचराग़था,और तुम को कुछ'अर्से तक उसकी रौशनी में ख़ुश रहना मंज़ूर हुआ| 36लेकिन मेरे पास जो गवाही है वो युहन्ना की गवाही से बड़ी है,क्यूँकि जो काम बाप ने मुझे पूरे करने को दिए,या'नी यही काम जो मैं करता हूँ,वो मेरे गवाह हैं कि बाप ने मुझे भेजा है| 37और बाप जिसने मुझे भेजा है,उसी ने मेरी गवाही दी है|तुम ने न कभी उसकी आवाज़ सुनी है और न उसकी सूरत देखी; 38और उस के कलाम को अपने दिलों मेंकायमनही रखते,क्यूँकिजिसे उसने भेजा है उसका यकीन नहीं करते| 39तुम किताब-ए-मुकद्दस में ढूँढ़ते हो,क्यूँकिसमझते हो कि उसमें हमेशा की ज़िन्दगी तुम्हें मिलती है,और ये वो है जो मेरी गवाही देती है; 40फिर भी तुम ज़िन्दगी पाने के लिए मेरे पास आना नहीं चाहते| 41मैं आदमियों से'इज़्ज़त नहीं चाहता| 42लेकिन मैं तुमको जानता हूँ कि तुम में ख़ुदा की मुहब्बत नहीं| 43मैं अपने बाप के नाम से आया हूँ और तुम मुझे क़ुबूल नहीं करते,अगर कोई और अपने ही नाम से आए तो उसे क़ुबूल कर लोगे| 44तुम जो एक दूसरे से'इज़्ज़त चाहते हो और वो'इज़्ज़त जो ख़ुदा-ए-वाहिद की तरफ़ से होती है नहीं चाहते,क्यूँकर ईमान ला सकते हो? 45ये न समझो कि मैं बाप से तुम्हारी शिकायत करूँगा;तुम्हारी शिकायत करनेवाला तो है,या'नी मूसा जिस पर तुम ने उम्मीद लगा रख्खी है| 46क्यूँकि अगर तुम मूसा का यकीन करते तो मेरा भी यकीन करते,इसलिए कि उसने मेरे हक़ में लिखा है| 47लेकिन जब तुम उसकेलिखे हुएका यकीन नहीं करते,तो मेरी बात का क्यूँकर यकीन करोगे?”

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index