Search form

लूका 5

1जब भीड़ उस पर गिरी पड़ती थी और खुदा का कलाम सुनती थी, और वो गनेसरत की झील के किनारे खड़ा था तो ऐसा हुआ कि 2उसने झील के किनारे दो नाव लगी देखीं, लेकिन मछली पकड़ने वाले उन पर से उतर कर जाल धो रहे थे 3और उसने उस नावों में से एक पर चढ़कर जो शमा'ऊन की थी, उससे दरख्वास्त की कि किनारे से ज़रा हटा ले चल और वो बैठकर लोगों को नाव पर से ता'लीम देने लगा | 4" जब कलाम कर चुका तो शमा'ऊन से कहा, "" गहरे में ले चल, और तुम शिकार के लिए अपने जाल डालो |""" 5" शमा'ऊन ने जवाब में कहा, ""ऐ खुदावन्द ! हम ने रात भर मेहनत की और कुछ हाथ न आया, मगर तेरे कहने से जाल डालता हूँ |""" 6ये किया और वो मछलियों का बड़ा गोल घेर लाए, और उनके जाल फ़टने लगे | 7और उन्होंने अपने साथियों को जो दूसरी नाव पर थे इशारा किया कि आओ हमारी मदद करो | पस उन्होंने आकर दोनों नावे यहाँ तक भर दीं कि डूबने लगीं | 8" शाम'ऊन पतरस ये देखकर ईसा' के पांव में गिरा और कहा, ""ऐ खुदावन्द ! मेरे पास से चला जा, क्यूँकि मैं गुनहगार आदमी हूँ |""" 9क्यूँकि मछलियों के इस शिकार से जो उन्होंने किया, वो और उसके सब साथी बहुत हैरान हुए | 10" और वैसे ही ज़ब्दी के बेटे या'कूब और युहन्ना भी जो शमा'ऊन के साथी थे, हैरान हुए | ईसा' ने शमा'ऊन से कहा, ""खौफ न कर, अब से तू आदमियों का शिकार करेगा |""" 11वो नावों को किनारे पर ले आए और सब कुछ छोड़कर उसके पीछे हो लिए | 12" जब वो एक शहर में था, तो देखो, कोढ़ से भरा हुआ एक आदमी ईसा' को देखकर मुँह के बल गिरा और उसकी मिन्नत करके कहने लगा, ""ऐ खुदावन्द, अगर तू चाहे तो मुझे पाक साफ़ कर सकता है |""" 13" उसने हाथ बढ़ा कर उसे छुआ और कहा, ""मैं चाहता हूँ, तू पाक साफ़ हो जा |"" और फ़ौरन उसका कोढ़ जाता रहा |" 14" और उसने उसे ताकीद की, ""किसी से न कहना बल्कि जाकर अपने आपको काहिन को दिखा | और जैसा मूसा ने मुकर्रर किया है अपने पाक साफ़ हो जाने के बारे मे नज्र गुज़रान ताकि उनके लिए गवाही हो |""" 15लेकिन उसका चर्चा ज़्यादा फ़ैला और बहुत से लोग जमा' हुए कि उसकी सुनें और अपनी बीमारियों से शिफ़ा पाएँ 16मगर वो जंगलों में अलग जाकर दु'आ किया करता था | 17और एक दिन ऐसा हुआ कि वो ता'लीम दे रहा था और फरीसी और शरा' के मु'अल्लिम वहाँ बैठे हुए थे जो गलील के हर गावँ और यहूदिया और यरूशलीम से आए थे | और खुदावन्द की कुदरत शिफ़ा बख्शने को उसके साथ थी | 18और देखो, कोई मर्द एक आदमी को जो फालिज का मारा था चारपाई पर लाए और कोशिश की कि उसे अन्दर लाकर उसके आगे रख्खें | 19और जब भीड़ की वज़ह से उसको अन्दर ले जाने की राह न पाई तो छत पर चढ़ कर खपरैल में से उसको खटोले समेत बीच में ईसा' के सामने उतार दिया | 20" उसने उनका ईमान देखकर कहा, ""ऐ आदमी ! तेरे गुनाह मु'आफ़ हुए !""" 21" इस पर फकीह और फरीसी सोचने लगे, ""ये कौन है जो कुफ्र बकता है? खुदा के सिवा और कौन गुनाह मु'आफ़ कर सकता है ?""" 22" ईसा' ने उनके ख्यालों को माँ'लूम करके जवाब में उनसे कहा, ""तुम अपने दिलों में क्या सोचते हो?""" 23आसान क्या है? ये कहना कि 'तेरे गुनाह मु'आफ़ हुए' या ये कहना कि 'उठ और चल फिर'? 24" लेकिन इसलिए कि तुम जानो कि इब्न-ए-आदम को ज़मीन पर गुनाह मु'आफ़ करने का इख़्तियार है; (उसने मफ्लूज से कहा) मैं तुझ से कहता हूँ, उठ और अपना चारपाई उठाकर अपने घर जा |""" 25वो उसी दम उनके सामने उठा और जिस पर पड़ा था उसे उठाकर खुदा की तम्जीद करता हुआ अपने घर चला गया | 26" वो सब के सब बहुत हैरान हुए और खुदा की तम्जीद करने लगे, और बहुत डर गए और कहने लगे, ""आज हम ने 'अजीब बातें देखीं !""" 27" इन बातों के बा'द वो बाहर गया और लावी नाम के एक महसूल लेनेवाले को महसूल की चौकी पर बैठे देखा और उससे कहा, ""मेरे पीछे हो ले |""" 28वो सब कुछ छोड़कर उठा, और उसके पीछे हो लिया | 29फिर लावी ने अपने घर में उसकी बड़ी ज़ियाफत की; और महसूल लेनेवालों और औरों का जो उनके साथ खाना खाने बैठे थे, बड़ी भीड़' थी | 30" और फ़रीसी और उनके आलिम उसके शागिर्दों से ये कहकर बुदबुदाने लगे, ""तुम क्यूँ महसूल लेनेवालों और गुनाहगारों के साथ खाते-पीते हो?""" 31" ईसा' ने जवाब में उनसे कहा, ""तन्दरुस्तों को हकीम की ज़रूरत नहीं है बल्कि बीमारों को |""" 32मैं रास्तबाज़ों को नहीं बल्कि गुनाहगारों को तौबा के लिए बुलाने आया हूँ | 33" और उन्होंने उससे कहा, ""युहन्ना के शागिर्द अक्सर रोज़ा रखते और दू'आएँ किया करते हैं, और इसी तरह फरीसियों के भी; मगर तेरे शागिर्द खाते पीते है |""" 34" ईसा' ने उनसे कहा, ""क्या तुम बरातियों से, जब तक दूल्हा उनके साथ है, रोज़ा रखवा सकते हो?" 35" मगर वो दिन आएँगे; और जब दूल्हा उनसे जुदा किया जाएगा तब उन दिनों में वो रोज़ा रख्खेंगे |""" 36" और उसने उनसे एक मिसाल भी कही: ""कोई आदमी नई पोशाक में से फाड़कर पुरानी में पैवन्द नहीं लगाता,वरना नई भी फटेगी और उसका पैवन्द पुरानी में मेल भी न खाएगा |""" 37और कोई शख्स नई मय पूरानी मशकों में नहीं भरता, नहीं तो नई मय मशकों को फाड़ कर खुद भी बह जाएगी और मशकें भी बर्बाद हो जाएँगी | 38बल्कि नई मय नयी मशकों में भरना चाहिए | 39" और कोई आदमी पुरानी मय पीकर नई की ख्वाहिश नहीं करता, क्यूँकि कहता है कि पुरानी ही अच्छी है |"""

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index