Search form

लूका 6

1फिर सबत के दिन यूँ हुआ कि वो खेतों में से होकर जा रहा था, और उसके शागिर्द बालें तोड़-तोड़ कर और हाथों से मल-मलकर खाते जाते थे | 2" और फरीसियों में से कुछ लोग कहने लगे, ""तुम वो काम क्यूँ करते हो जो सबत के दिन करना ठीक नहीं |""" 3" ईसा' ने जवाब में उनसे कहा, ""क्या तुम ने ये भी नहीं पढ़ा कि जब दाऊद और उसके साथी भूखे थे तो उसने क्या किया?""" 4" वो क्यूँकर खुदा के घर में गया, और नज्र की रोटियाँ लेकर खाई जिनको खाना कहिनों के सिवा और किसी को ठीक नहीं, और अपने साथियों को भी दीं |""" 5" फिर उसने उनसे कहा, ""इब्न-ए-आदम सबत का मालिक है |""" 6और यूँ हुआ कि किसी और सबत को वो 'इबादतखाने में दाखिल होकर ता'लीम देने लगा | वहाँ एक आदमी था जिसका दहिना हाथ सूख गया था | 7और आलिम और फरीसी उसकी ताक में थे, कि आया सबत के दिन अच्छा करता है या नहीं, ताकि उस पर इल्ज़ाम लगाने का मौका' पाएँ | 8" मगर उसको उनके ख़याल मा'लूम थे; पस उसने उस आदमी से जिसका हाथ सुखा था कहा, ""उठ, और बीच में खड़ा हो !""" 9" ईसा' ने उनसे कहा, ""मैं तुम से ये पूछता हूँ कि आया सबत के दिन नेकी करना ठीक है या बदी करना? जान बचाना या हलाक करना?""" 10" और उन सब पर नज़र करके उससे कहा, ""अपना हाथ बढ़ा ! ""उसने बढ़ाया और उसका हाथ दुरुस्त हो गया |" 11वो आपे से बाहर होकर एक दुसरे से कहने लगे कि हम ईसा' के साथ क्या करें | 12और उन दिनों में ऐसा हुआ कि वो पहाड़ पर दु'आ करने को निकला और खुदा से दु'आ करने में सारी रात गुज़ारी | 13जब दिन हुआ तो उसने अपने शागिर्दों को पास बुलाकर उनमे से बारह चुन लिए और उनको रसूल का लकब दिया : 14या'नी शमा'ऊन जिसका नाम उसने पतरस भी रख्खा, और अन्द्रियास, और या'कूब, और युहन्ना, और फिलिप्पुस, और बरतुल्माई, 15और मत्ती, और तोमा, और हलफ़ई का बेटा या'क़ूब, और शमा'ऊन जो ज़ेलोतेस कहलाता था, 16और या'कूब का बेटा यहुदाह, और यहुदाह इस्करियोती जो उसका पकड़वाने वाला हुआ | 17और वो उनके साथ उतर कर हमवार जगह पर खड़ा हुआ, और उसके शागिर्दों की बड़ी जमा'अत और लोगों की बड़ी भीड़ वहाँ थी, जो सारे यहुदिया और यरूशलीम और सूर और सैदा के बहरी किनारे से उसकी सुनने और अपनी बीमारियों से शिफ़ा पाने के लिए उसके पास आई थी | 18और जो बदरूहों से दुख पाते थे वो अच्छे किए गए | 19और सब लोग उसे छूने की कोशिश करते थे, क्यूँकि कुव्वत उससे निकलती और सब को शिफ़ा बख्शती थी | 20" फिर उसने अपने शागिर्दों की तरफ़ नज़र करके कहा, ""मुबारक हो तुम जो गरीब हो, क्यूँकि खुदा की बादशाही तुम्हारी है |”" 21" ""मुबारक हो तुम जो अब भूखे हो, क्यूँकि आसूदा होगे ""मुबारक हो तुम जो अब रोते हो, क्यूँकि हँसोगे" 22" ""जब इब्न-ए-आदम की वज़ह से लोग तुम से 'दुश्मनी रख्खेंगे, और तुम्हें निकाल देंगे, और ला'न-ता'न करेंगे,""" 23" ""उस दिन खुश होना और ख़ुशी के मारे उछलना, इसलिए कि देखो आसमान पर तुम्हारा अज्र बड़ा है; क्यूँकि उनके बाप-दादा नबियों के साथ भी ऐसा ही किया करते थे |" 24" ""मगर अफ़सोस तुम पर जो दौलतमन्द हो, क्यूँकि तुम अपनी तसल्ली पा चुके |" 25" ""अफ़सोस तुम पर जो अब सेर हो, क्यूँकि भूखे होगे | ""अफ़सोस तुम पर जो अब हँसते हो, क्यूँकि मातम करोगे और रोओगे |""" 26" ""अफ़सोस तुम पर जब सब लोग तुम्हें अच्छा कहें, क्यूँकि उनके बाप-दादा झूटे नबियों के साथ भी ऐसा ही किया करते थे |" 27" ""लेकिन मैं सुनने वालों से कहता हूँ कि अपने दुश्मनों से मुहब्बत रख्खो, जो तुम से 'दुश्मनी रख्खें उसके साथ नेकी करो |" 28जो तुम पर ला'नत करें उनके लिए बरकत चाहो, जो तुमसे नफरत करें उनके लिए दू'आ करो | 29जो तेरे एक गाल पर तमाँचा मारे दूसरा भी उसकी तरफ़ फेर दे, और जो तेरा चोगा ले उसको कुर्ता लेने से भी मना' न कर | 30जो कोई तुझ से माँगे उसे दे, और जो तेरा माल ले ले उससे तलब न कर | 31और जैसा तुम चाहते हो कि लोग तुम्हारे साथ करें, तुम भी उनके साथ वैसा ही करो | 32" ""अगर तुम अपने मुहब्बत रखनेवालों ही से मुहब्बत रख्खो, तो तुम्हारा क्या अहसान है? क्यूँकि गुनाहगार भी अपने मुहब्बत रखनेवालों से मुहब्बत रखते हैं |" 33और अगर तुम उन ही का भला करो जो तुम्हारा भला करें, तो तुम्हारा क्या अहसान है? क्यूँकि गुनहगार भी ऐसा ही करते हैं | 34और अगर तुम उन्हीं को कर्ज़ दो जिनसे वसूल होने की उम्मीद रखते हो, तो तुम्हारा क्या अहसान है? गुनहगार भी गुनहगारों को कर्ज़ देते हैं ताकि पूरा वसूल कर लें 35मगर तुम अपने दुश्मनों से मुहब्बत रख्खो, और नेकी करो, और बगैर न उम्मीद हुए कर्ज़ दो तो तुम्हारा अज्र बड़ा होगा और तुम खुदा के बेटे ठहरोगे, क्यूँकि वो न-शुक्रों और बदों पर भी महरबान है | 36जैसा तुम्हारा बाप रहीम है तुम भी रहम दिल हो | 37'ऐबजोई ना करो, तुम्हारी भी 'ऐबजोई न की जाएगी | मुजरिम न ठहराओ,तुम भी मुजरिम ना ठहराये जाओगे | इज्ज़त दो, तुम भी इज्ज़त पाओगे | 38" दिया करो, तुम्हें भी दिया जाएगा | अच्छा पैमाना दाब-दाब कर और हिला-हिला कर और लबरेज़ करके तुम्हारे पल्ले में डालेंगे, क्यूँकि जिस पैमाने से तुम नापते हो उसी से तुम्हारे लिए नापा जाएगा |""" 39" और उसने उनसे एक मिसाल भी दी"" क्या अंधे को अँधा राह दिखा सकता है ? क्या दोनों गड्ढे में न गिरेंगे?""" 40शागिर्द अपने उस्ताद से बड़ा नहीं, बल्कि हर एक जब कामिल हुआ तो अपने उस्ताद जैसा होगा | 41तू क्यूँ अपने भाई की आँख के तिनके को देखता है, और अपनी आँख के शहतीर पर गौर नहीं करता? 42और जब तू अपनी आँख के शहतीर को नहीं देखता तो अपने भाई से क्यूँकर कह सकता है, कि भाई ला उस तिनके को जो तेरी आँख में है निकाल दूँ? ऐ रियाकार | पहले अपनी आँख में से तो शहतीर निकाल, फिर उस तिनके को जो तेरे भाई की आँख में है अच्छी तरह देखकर निकाल सकेगा | 43" ""क्यूँकि कोई अच्छा दरख्त नहीं जो बुरा फल लाए, और न कोई बुरा दरख्त है जो अच्छा फल लाए |" 44हर दरख्त अपने फल से पहचाना जाता है, क्यूँकि झाड़ियों से अंजीर नहीं तोड़ते और न झड़बेरी से अंगूर | 45" ""अच्छा आदमी अपने दिल के अच्छे ख़ज़ाने से अच्छी चीज़ें निकालता है, और बुरा आदमी बुरे ख़ज़ाने से बुरी चीज़ें निकालता है; क्यूँकि जो दिल में भरा है वही उसके मुँह पर आता है |""" 46जब तुम मेरे कहने पर 'अमल नहीं करते तो क्यूँ मुझे 'खुदावन्द, खुदावन्द' कहते हो | 47जो कोई मेरे पास आता और मेरी बातें सुनकर उन पर 'अमल करता है, मैं तुम्हें बताता हूँ कि वो किसकी तरह है | 48वो उस आदमी की तरह है जिसने घर बनाते वक्त ज़मीन गहरी खोदकर चट्टान पर बुनियाद डाली, जब तूफ़ान आया और सैलाब उस घर से टकराया, तो उसे हिला न सका क्यूँकि वो मज़बूत बना हुआ था || 49" लेकिन जो सुनकर 'अमल में नहीं लाता वो उस आदमी की तरह है जिसने ज़मीन पर घर को बे-बुनियाद बनाया, जब सैलाब उस पर ज़ोर से आया तो वो फौरन गिर पड़ा और वो घर बिलकुल बर्बाद हुआ |"""

उर्दू बाइबिल

Copyright © 2017 Bridge Connectivity Solutions. Released under a Creative Commons Attribution Share-Alike license 4.0.

More Info | Version Index